Archive

Category Archives for "republic day 2021"

26 January 2021 Countdown Republic Day 2021

Republic Day Countdown

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आज यह कौन नहीं शानदार tool में दोस्तों आज के इस toolnकी मदद से आप Republic Day Countdown 2021 पता कर सकते हो तो दोस्तों चलिए देखते हैं

26 January 2021 countdown

तो दोस्तों हमने आपको इस tool में 26 January 2021 का countdown टाइम लगाएंगे जिसकी मदद से आप 26 जनवरी कितने दिन बचे हैं और कितने घंटे बचे हैं और कितने सेकंड बचे हैं यह सब जानकारी आपको इस टूल में प्रदान करेंगे

और दोस्तों आपको ऐसे दोस्तों ज्यादा से ज्यादा शेयर करना जिससे कि अपने दोस्तों के साथ शेयर करना है जिससे कि उन दोस्तों को भी पता चल जाएगी 26 जनवरी कब है और कितने दिन बचे हैं चलिए देखते हैं

26 जनवरी क्‍यों मनाई जाती है? गणतंत्र दिवस?

 जैसा कि आप सभी को पता है कि 26 जनवरी 1950 को  हमारा संविधान को लागू किया गया था तब से हम 26 जनवरी के दिन को प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस के रुप में मनाते हैं ।

 26 जनवरी मतलब गणतंत्र दिवस के दिन भारत के सभी स्कूल, महाविद्यालय एवं सरकारी संस्थाओं में गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी को हमारा राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया जाता है।। 

तो चलिए हम विस्तार से जान लेते हैं कि हमारा संविधान किस प्रकार निर्माण किया गया था तो चलिए जान लेते हैं

भारत में दिसंबर 1946 को एक संविधान निर्माण सभा का गठन किया  गया था जिसकी स्थापना के मुख्य उद्देश्य थे कि भारत में लोकतंत्रात्मक  एवं न्यायपूर्ण समाज की स्थापना हो

इस सभा में प्रमुख रूप यह सदस्य थे जिनमें डॉ राजेंद्र प्रसाद, पंडित जवाहरलाल नेहरू, मौलाना अबुल कलाम आजाद, आचार्य कृपलानी, खान अब्दुल गफ्फार खान, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर, टीटी कृष्णमाचारी, सरदार वल्लभभाई पटेल, गोविंद बल्लभ पंत, राज्यश्री पुरुषोत्तम दास टंडन यह सदस्य थे  और मध्य प्रदेश से डॉ हरिसिंह, गौर सेठ गोविंद दास, हरि विष्णु कामत भी संविधान सभा के सदस्यों में सम्मिलित थे

जिनमें से संविधान निर्माण सभा के अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद और संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी थे

संविधान को निर्मात्री सभा ने 26 नवंबर 1949 को स्वतंत्र भारत के संविधान को स्वीकार किया था तथा इस संविधान को 26 जनवरी 1950 को लागू किया था उसी दिन से 26 जनवरी को उसी दिन से गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है

अब जान लेते हैं भारत के संविधान को बनने में कितना समय लगा था तो इसे बनाने में 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था

50+ Best 26 January 2021 Shayari In Hindi | Republic Day shayari

 नमस्कार दोस्तों स्वागत है आज की एक और नई सानदार पोस्ट में तो सबसे पहले आपको 26 जनवरी की हार्दिक-हार्दिक शुभकामनाएं तो आज की इस 26 january shayari in hindi 2021 पोस्ट में हम आपको यह बताएंगे तो आपको पूरा जरूर पढ़ना है चलिए शुरू करते हैं। 26 January Countdown timer 

26 January 2021 shayari in hindi 

Happy Republic Day Shayari in hindi 

और उसके साथ साथ हम आपको 26 जनवरी के डायलॉग 26 january shayari in hindi 2020 image download रिपब्लिक डे शायरी इन हिंदी Republic Day Shayari 2021 in hindi 26 जनवरी की शायरी  गणतंत्र दिवस शायरी in hindi यह जानकारी भी देंगे।

republic day special shayari in hindi

26 january shayari in hindi

 तो नमस्कार दोस्तों चलिए शुरुआत करते हैं 26 January shayri in hindi तो शुरू करते हैं तो आप नीचे देख सकते हो हमने बहुत सारी शायरियां आपको नीचे  प्रदान करी है अप नीचे देख सकते है

इंडियन होने पर करिये गर्व, 

मिलकर मनाएं लोकतंत्र का पर्व, 

देश के दुश्मनों को मिलकर हराओ, 

हर घर पर तिरंगा लहराओ॥

26 जनवरी के डायलॉग

कुछ नशा तिरंगे की आन है,

कुछ नशा मातृभूमि की शान का है, 

हम लहराएँगे हर जगह ये तिरंगा, 

नशा ये हिंदुस्तान की शान का है क्यों मरते हो यारो सनम के लिए, 

ना देगी दुप्पटा कफ़न के लिए, 

मरना है तो मारो वतन के लिए, 

तिरंगा तो मिलेगा कफ़न के लिए, 

|| जय हिंदी हैप्पी रिपब्लिक डे ||

तैरना है तो समंदर में तैरो,

नदी और नैहरो में क्या रखा है,

प्यार में मरना है तो वतन पे मरो,

वतन पे मरोगे तो नाम होगा,

किसी और के प्यार में मरोगे तो नाम बदनाम होगा||

26 january shayari in hindi 2020 image download 

ज़माने भर में मिलते है आशिक़ कई,

मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता,

नोटों में लिपट कर, सोने में सिमट कर मरे है कई,

मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता.

||…Happy Republic Day 2021…||

Republic Day Shayari 2021

अलग है भाषा, धर्म जात,

और प्रांत, भेष, परिवेश,

पर हम सब का एक ही गौरव है,

राष्ट्रध्वज तिरंगा श्रेठ

|| गणत्रंता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ||

26 january 2021 shayari in hindi

आज सलाम है उन वीरो को

जिनके कारण ये दिन आता है|

वो माँ खुशनसीब होती है,

बलिदान जिनके बच्चों का देश के काम आता है..

26 जनवरी की शायरी

तीन रंग का है तिरंगा

ये ही मेरी पहचान है

शान देश की, आन देश की

हम तो इसकी ही सन्तान हैं।

!! 26 जनवरी की बधाई !!

रिपब्लिक डे शायरी इन हिंदी

दाग गुलामी का धोया है, जान लुटा कर लाए हैं

कितने दीप बुझा कर मिली है यह आजादी

फिर इस आजादी को रखना होगा आज हर एक दुश्मन से  बचाकर!

!! भारत माता की जय !!

Republic Day Shayari 2021 in hindi

खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है।

!! जय हिन्द !!

26 January shayari in hindi

चढ़ गये जो हँसकर सूली, 

खाई जिन्होंने सीने पर गोली

हम उनको प्रणाम करे हैं, 

जो मिट गये देश पर

हम सब उनको सलाम करते हैं।

!! भारत माता की जय !!

 
26 January 2021 Shayari in hindi  

तो दोस्तों 26 जनवरी 2021 की शायरी कुछ इस प्रकार है जैसा कि आप नीचे देख सकते हो तो आपको यह पसंद आ रही हो तो अपने दोस्तों के साथ भी इन्हें शेयर कर दो

वतन हमारा मिसाल मोहब्बत की

तोड़ता है दीवार नफरत की

मेरी खुश नसीबी मिली ज़िन्दगी इस चमन में .

भुला न सके कोई इसकी खुशबु सातों जनम में

!! गणतंत्र दिवस की बधाई !!

Republic Day Shayari In Hindi 2021

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, 

नहीं सिर्फ झंडे लहराना,

ये काफी नहीं है वतन पर, 

यादों को नहीं भुलाना,

जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,

खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,

हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,

इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के

!! २६ जनवरी की बधाई !!

तिरंगा लहरायेंगे,

भक्ति गीत गुनगुनाएंगे,

वादा करो इस देश को,

दुनिया का सबसे प्यारा देश बनायेंगे।

!! HAPPY REPUBLIC DAY 2021 !!

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,

तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,

हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,

यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा ||

Indian Republic day 2021 की शुभकामनाये.

गुल को गुलिस्तॉं से, प्यार न होता !

तो आज ये प्यारा सा ,संसार न होता !

देश के अमर शहीदों में,वो जज्बा न होता !

तो भारत आजाद और ये बहार न होता !!

कुछ नशा तिरंगे की आन है,

कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,

हम लहराएँगे हर जगह ये तिरंगा,

नशा ये हिंदुस्तान की शान का है.

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं

आज शहीदों ने है तुमको, अहले वतन ललकारा,

तोड़ो गुलामी की जंजीरें, बरसाओ अंगारा,

हिन्दू-मुस्लिम-सिख हमारा, भाई-भाई प्यारा,

यह है आजादी का झंडा, इसे सलाम हमारा ||

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,

ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,

जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,

खुदा के लिए नही ज़िन्दगी वतन के लिए लुटाना,

हम लाएं है तूफ़ान से कश्ती निकाल के,

इस देश को रखना मेरे बच्चों संभाल के 

 

तो सबसे पहले हम जान लेते हैं कि 26 जनवरी क्यों मनाई जाती है आखिर उस दिन क्या हुआ था जिससे गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को मनाया जाता है।

26 जनवरी क्‍यों मनाई जाती है? गणतंत्र दिवस?

 जैसा कि आप सभी को पता है कि 26 जनवरी 1950 को  हमारा संविधान को लागू किया गया था तब से हम 26 जनवरी के दिन को प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस के रुप में मनाते हैं ।

 26 जनवरी मतलब गणतंत्र दिवस के दिन भारत के सभी स्कूल, महाविद्यालय एवं सरकारी संस्थाओं में गणतंत्र दिवस यानी 26 जनवरी को हमारा राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया जाता है।। 

तो चलिए हम विस्तार से जान लेते हैं कि हमारा संविधान किस प्रकार निर्माण किया गया था तो चलिए जान लेते हैं

भारत में दिसंबर 1946 को एक संविधान निर्माण सभा का गठन किया  गया था जिसकी स्थापना के मुख्य उद्देश्य थे कि भारत में लोकतंत्रात्मक  एवं न्यायपूर्ण समाज की स्थापना हो

इस सभा में प्रमुख रूप यह सदस्य थे जिनमें डॉ राजेंद्र प्रसाद, पंडित जवाहरलाल नेहरू, मौलाना अबुल कलाम आजाद, आचार्य कृपलानी, खान अब्दुल गफ्फार खान, डॉक्टर भीमराव अंबेडकर, टीटी कृष्णमाचारी, सरदार वल्लभभाई पटेल, गोविंद बल्लभ पंत, राज्यश्री पुरुषोत्तम दास टंडन यह सदस्य थे  और मध्य प्रदेश से डॉ हरिसिंह, गौर सेठ गोविंद दास, हरि विष्णु कामत भी संविधान सभा के सदस्यों में सम्मिलित थे

जिनमें से संविधान निर्माण सभा के अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद और संविधान सभा के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी थे

संविधान को निर्मात्री सभा ने 26 नवंबर 1949 को स्वतंत्र भारत के संविधान को स्वीकार किया था तथा इस संविधान को 26 जनवरी 1950 को लागू किया था उसी दिन से 26 जनवरी को उसी दिन से गणतंत्र दिवस के रूप में मनाया जाता है

अब जान लेते हैं भारत के संविधान को बनने में कितना समय लगा था तो इसे बनाने में 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था